निर्मला चाय का कप हाथ में लिए खिङकी के पास खङी आसमान में सुबह की लाली को निहारते हुए पुराने दिनों में खो गई थी। इस एक महीने में वह यही कर रही है, अपने इस मायके के घर के हर कोने में कितनी यादें बसी हैं, उन्ही यादों में बार-बार डूब जाती है।भाभी, भैय्या और कृति से वह अपने बचपन की ही बातें करती रही है। अम्मा और बाबूजी का नाम बार-बार ज़ुबान पर आता और आँखें भीग जाती, पर वह उन्हें छलकने से रोक लेती थी, वे सब भी समझते हुए बिना ज़ाहिर किए उसके साथ बातों में डूब जाते थे।उसने एक दिन भी रंजीत का जिक्र नहीं किया, उन सभी ने भी यह सोच कर नहीं किया कि उसका दर्द ताज़ा है। पर उसके बचपन में भी तो रंजीत मौज़ुद था। इसी खिङकी से वह रंजीत को आता देखती थी, तुरंत दुपट्टा गले में डाल, किताबें उठा नीचे दौङ पङती थी। अम्मा का कहना था कि “ज़वान लङका पढ़ाएगा तो नीचे ड्राइंग रुम में हमारे बीच में ही बैठ कर पढ़ाई होगी।” भैय्या ने कहा भी, ” रंजीत मेरे बचपन का दोस्त है, आप भी उसे जानती हो, स्वभाव का थोङा टेढ़ा है पर शरीफ है। बैंक में ऑफिसर, पढ़ाई में हमेशा अव्वल रहा है। मेरे बहुत कहने पर ही वह निम्मो को पढ़ाने के लिए तैयार हुआ है। गुस्सा उसके नाक पर रहता है, हमारी बातुनी निम्मो उसके सामने मुहँ नहीं खोल पाएगी।” अम्मा फिर भी बोली थी, ” अभी तक तो तुम पढ़ाते रहे थे, तब भी तो यह पढ़ लेती थी, नंम्बर भी अच्छे आते थे। इसी साल इसकी ग्यारवीं का बोर्ड और तुम्हें अपनी नई बीबी के साथ सैर- सपाटे से फुर्सत नहीं है”। बङे भैय्या से 10 वर्ष और छोटे भैय्या से 7 वर्ष छोटी निर्मला सबकी लाडली थी। बाबुजी तो उस पर निहाल ही रहते थे, जो भी थोङी बहुत सख्ती करती थी ,वह अम्मा ही करती थी, पर बाबुजी की मृत्यु के बाद वह भी थोङी ढीली हो गई थीं।

निर्मला भी बाबुजी के बाद, मन में उदासी छुपा कर सबको खुश रखने की कोशिश करती, उसका खुशदिल और हँसमुख स्वभाव सबके दिल को खिला-खिला रखता था। बाबुजी की जिद्दी बेटी अब माँ की हर बात मानती थी। जब भी पढ़ाई से समय मिलता अम्मा उसे सिलाई-कढ़ाई, बुनाई सिखाती थी। घर को सजाने का तो उसे बचपन से शौक था।वह अपने घर को खूब मन से सजाती थी। पर वह पढ़ना भी बहुत चाहती थी, वह एक प्रशासनिक अधिकारी बनने के सपने देखा करती थी।

लेकिन उसका किशोरावस्था का नासमझ दिल उसके सभी सपने उङा ले गया था। बङे भैय्या की शादी में मिली थी वह रंजीत से, देखते ही दिल धङक उठा था, वह 16 साल की उम्र ही ऐसी थी।जैसे सपने देखने लगी थी वह आजकल, वैसा ही राजकुमार उसके सामने था।सच ही रंजीत के सामने उसकी ज़ुबान बंद ही रहती थी, इन 43 सालों में भी वह कहाँ कह पाती थी उससे अपने मन की बात, पता नहीं यह डर था या प्रेम अथवा उसके प्रति सम्मान था।वह जानती थी कि रंजीत उससे बहुत प्रेम करता है जैसे वह उससे प्रेम करती थी। यह प्रेम ही उनके रिश्ते की मज़बूत डोर था। अम्मा कितना गुस्सा हुई थी!, भैय्या ने कहा कि ” रंजीत ने मेरी मासूम बहन को बहकाया है।” छोटे भैय्या ने समझाया,”अभी तु बहुत छोटी है, भूल गई अपने सपनों को? कितनी पढ़ाई करना चाहती थी तु?” भाभी बोली, ” यह प्रेम नहीं आकृर्षण है, और मुझे तो तुम्हारे इस प्रेम में भय भी दिख रहा है,सब जानते है रंजीत का स्वभाव।” उसकी जिद् के सामने सब हार गए थे और शादी तो धूमधाम से ही की थी। ऐसी जिद्दी, नाज़ो-नखरों से पली निर्मला अपने प्रेमी पति के सामने बिलकुल गऊ ही थी। बङे भैय्या और रंजीत की मित्रता भी खत्म हुई और इस नई रिश्तेदारी ने ऐसी खटास पैदा की…..कि

इन 43 सालों में अपने मायके एक या दो बार ही निर्मला आ पाई थी । दोनों भैय्या ने निर्मला के लिए बहुत झुकने की कोशिश की थी।पर रंजीत की अकङ कम ही नहीं हुई थी।

रंजीत की मृत्यु को तीन महीने हो गए है,भैय्या-भाभी ने कभी उसे छोङा नहीं था, उसके हाल लेते रहते थे, दोनो भाई रंजीत के व्यवहार को अनदेखा कर उससे मिलने भी आते थे।रंजीत के जाने के बाद भी वे दोनों उससे आग्रह करते रहे कि अब तो वह अपने मायके चले।उसके दोनो बेटों ने भी बहुत समझाया था,”आप मामा के साथ समय बिताओगी तो आपका मन बदलेगा।” पर रंजीत के बाद दो महीने तक तो उसे कुछ समझ ही नहीं आ रहा था, कैसे वह उसके बिना रह पाएगी? शादी के बाद शायद ही कभी वह रंजीत के बिना एक दिन भी रही थी। कहीं जाने का, किसी से मिलने का मन नहीं था। पर उस दिन भाभी जब मिलने आई तो उसके लिए कढ़ी बना कर लाई थी, एक कौर मुँह में डालते ही जैसे इतने वर्षों का स्वाद ही नहीं अपितु अम्मा-बाबूजी भी सामने थे,और उस दिन जो आँसुओं का बाँध टूटा था, वह रंजीत के लिए नहीं था, वह 43 वर्ष पुराना था, जिसमें न जाने क्या और कितना कुछ बह रहा था।

एक महीना भाभी से कितनी बातें हुई,भाभी जानना चाहती थी कि कैसे बीते उसके 43 वर्ष।निर्मला कैसे शुरु करें इन 43 वर्षो का जीवन -वृतांत। रंजीत कठोर अवश्य थे पर हिंसक नहीं थे ( जो भाभी जानना चाहती थी।)। उन्होंने उसे जीवन की सभी सुख- सुविधाएँ दी थी,बिना कहें उसे हर चीज़ मिलती थी,हल्के से सर्दी जुकाम में भी उसकी पूरी तिमारदारी करते थे। यह भी सच है कि वह प्रेमी थे पर दीवाने नहीं थे। घर में उनकी इच्छा के बिना पत्ता भी नहीं हिलता था।और न जाने क्यों निर्मला ने भी कभी उनका विरोध नहीं किया था, उसे उनकी बुद्धि पर इतना विश्वास था कि वह जो भी कहते, करते हैं, उसी में सबकी खुशी है।इसीलिए उसे कभी नही लगा कि उसे रंजीत से डर लगता था( जैसा भाभी कह रही थी)। वह तो उससे प्रेम करती थी उसका सम्मान करती थी पूर्णतः वह रंजीत के रंग में रंगी थी। भाभी ने पूछा, ” और क्या मायके आने का मन नहीं करता था?” “शुरु में बहुत करता था फिर आदत हो गई थी, आदत बहुत बूरी चीज़ होती है, फिर यह जीवन चक्र ऐसा उलझाता है कि बस समय बीतता जाता है पता ही नहीं लगता है, आरंभ में ही रंजीत ने अपना स्थानांतरण बंगलौर करा लिया था, इस दूरी से बहुत कुछ छूट गया था।” निर्मला यह सब बताते हुए शायद अपने जीवन को समझ रही थी। अपना 60वाँ जन्मदिन भैय्या-भाभी के साथ मना कर एक नई खुशी के साथ वह वापिस लौटी थी।गाङी से उतरते ही सामने वाली रमा दीदी दिख गई,बोली,” अच्छा हुआ भैय्या के घर रह आई, चेहरे पर कितनी रौनक आ गई है।” वह थोङी देर उनसे बातें करती रही थी। उसको हँसता-मुस्कराता देख,दीदी बोली,” ऐसे ही खुश रहा करो”। घर में घूसते ही सभी पोते-पोती उससे लिपट गए। वह भी अपने कुनबे के बीच अनोखी खुशी के अहसास से भरी थी। तभी बङी बहु निशा बोली, ” माँ आप इस साङी में बहुत अच्छी लग रही हो, यह बादामी रंग आप पर बहुत खिल रहा है, आपने पहले यह रंग कभी नहीं पहना न?” बेटी विशाखा उसके गले में हाथ डाले बोली,”हमारी गोरी-गोरी माँ को पापा बस लाल हरे रंग पहनाते थे।” छोटी बहु गरिमा बोली, ” माँ, क्या आप उन रंगो से कभी बोर नहीं हुए?” “अरे बोर कैसी? तेरे पापा की पसंद बहुत अच्छी थी ,हर त्योहार पर नई साङी मिलती थी।” हँसते हुए निर्मला बोली।

अपने कमरे में आकर शीशे के सामने खङी हुई, तो स्वयं अपने को देख हैरान थी, आज शीशे में एक लंबे समय बाद वह अपने को देख रही थी, इससे पहले वह जिसे देखती थी, वह तो रंजीत की ही परछाई होती थी। यह सब क्या है?वह सोच रही थी। वह जब कुआँरी थी, तब आईना उससे उसको मिलाता था और आज फिर एक लंबे समय बाद, वह अपने से मिल रही है, कितनी बदल गई…..है। फिर सोचा कि यह बदलाव एक सुहागन से एक विधवा के रुप का है।अब समाज में बदलाव आ गया है इसीलिए पहनावे और रहन -सहन में कोई अंतर नहीं है।फिर भी बङी बिंदी की जगह छोटी बिंदी लगाई है, रंजीत को बङी बिंदी पसंद थी और उसे….। रंजीत उसकी ज़िन्दगी से गए हैं पर उनका प्यार और उनकी सोच हमेशा उसके साथ रहेंगे, यही सोचते हुए उसकी आँखों में पानी भर आया था।

निर्मला को अपने में आए बदलाव पता नहीं लग रहे थे, पर बाकी सब महसूस कर रहे थे उसकी निश्चितता, उसकी बैखौफ बेपरवाही।बच्चे कैरम खेल रहे थे, वह भी उनके बीच खेलने बैठ गई बच्चों के साथ उसकी हँसी की आवाज़ से अचंभित बेटे-बहु उसमें आए परिवर्तन को देख रहे थे और उसके लिए खुश थे।विशाखा सोच रही थी,” मेरी माँ हँसते हुए कितनी सुंदर दिखती है।” उसने सोचा, माँ से कहे कि “उनका यह बिंदास रूप बहुत सुंदर है। पर रुक गई कि कहीं वह सचेत न हो जाए और फिर अपनी खोल में घूस जाए। जैसे उन्हें नहीं पता कि उनका पापा से प्रेम भय मिश्रित था, वैसे ही उन्हें पता नहीं लगना चाहिए कि उनका व्यक्त्तित्व निर्भीक होता जा रहा है।

उस शाम माली आया तो बङे बेटे पुलकित के साथ वह भी बाहर आई और माली से बोली, “क्या सफेद गुलाब लगा दोगे?” और कहते ही उसने कुछ झिझक के साथ पुलकित की ओर देखा, पुलकित बोला, माँ, आपका जो मन है वो पौधा आप बगीचे में लगवा लो, आपका ही बगीचा है।” माली बोला,”मैडम, पौधों के लिए खाद् भी लाया था, आप डालेंगी या मैं डाल दूँ।” निर्मला का मन बगीचे में बहुत लगता है, अपने हाथ से कटाई-छटाई करती है।पर पौधे वही लगते थे, जो रंजीत चाहता था। बगीचा ही नहीं वह घर का हर कोना-कोना साफ व सुंदर अपनी इच्छानुसार देखना चाहता था। जिसके लिए निर्मला बहुत मेहनत करती थी, कहीं उसके मन जैसा न हो तो वह कहता कुछ नहीं अपितु क्रुद्ध भाव लिए अपने हाथ से साफ करने लगता था। कई बार वह साज-सज्जा में कुछ बदलाव करती तो वह तुरंत फिर अपनी इच्छानुसार ठीक कर देता था। निर्मला कहती भी कि ,” मैंने जैसा करा वह भी तो अच्छा लग रहा है, ऐसे ही रहने दें।” उसका जवाब होता, ” मुझे अच्छा नहीं लग रहा है,पर तुम्हें तो अपने मन का करना है।” बिना कुछ कहे भी उसका गुस्सा झलकता रहता था। ऐसा नहीं कि वह उसके गुस्से से डरती थी पर वह रंजीत को परेशान देख नहीं सकती थी इसलिए स्वयं रंजीत के मन का कर देती थी। और रंजीत को खुश देख वह भी प्रसन्न होती थी फिर यह अहसास भी नहीं होता था कि कभी उसने अपना मन मारा है। सच तो यही था कि वह न केवल उससे प्रेम करती थी अपितु उसकी दीवानी थी।दूसरे कहते कि वह रंजीत से डरती है पर वास्तविकता में यह उसकी श्रद्धा थी।

दोनों बेटे शहर से बाहर रहते थे, पुलकित चंडीगढ़ और छोटा बेटा सुमित अहमदाबाद रहता था।आजकल लंबी छुट्टियाँ ले कर आए थे, अब जाने की तैयारी थी। पुलकित बोला, माँ, रिज़र्वेशन करानी है,आपके लिए कौन सा दिन ठीक रहेगा? निर्मला हतप्रभ सी बोली, “मुझे कहाँ जाना है?” माँ इतने दिन से कोई न कोई आपके पास आकर रह रहा है, पर अब हमारा रुकना मुश्किल है।हम यहाँ आपको अकेला नहीं छोङ सकते हैं।आप हमारे साथ चलो, बच्चों के साथ आपका मन लगा रहेगा।”

निर्मला ने सबको देखा, फिर धीरे से बोली,” मुझे कुछ समय अपने साथ रहना है, अपने को समझना है।” सबने हैरानी से एक-दूसरे को देखा, लेकिन उसके बच्चे थे, उससे ज्यादा उसे समझते थे। बोले,”ठीक है, पर अकेली!” निर्मला बोली,” सोचती हुँ कि आगे के दोनों कमरे किराए पर दे दूँ।” विशाखा उसके दोनों हाथ पकङ कर बोली, ” जैसी माँ की इच्छा, फिर मैं तो पास ही रहती हुँ।” निर्मला ने दोनो बेटों के चिंतित चेहरे देख कहा, ” बाद में तुम्हारे पास ही आकर रहुँगी”। दोनो बोले,” कोई बात नहीं, अब जैसा आपका मन।” निर्मला स्वयं अपने फैसले पर हैरान थी, पहले उसने ऐसा कुछ विचार नहीं किया था। आज पहली बार उसने स्वतंत्र रुप से अपने लिए फैसला लिया था।

अगले 10 दिन बच्चों के लिए अचार-मुरब्बें और मठरी-लडडु बनाने में बीत गए थे।इन सब कामों के बीच गपशप भी चलती रही थी। बातों में ज्यादा रंजीत का ही जिक्र होता था। अब सिर्फ दुःख के साथ ही नहीं, मुस्कराते हुए भी उसे याद करते थें। बच्चे अपने पापा को और पोते-पोती अपने दादाजी को याद करते थे, निर्मला को सहज देख वे सब खुलकर रंजीत का नाम लेते थे। निर्मला को खुशी हुई कि इस बार पुलकित अपने पिता की आलोचना नहीं कर रहा था अपितु वह अपने बच्चों के सामने अपने पिता से सीखी शिक्षाओं का बखान कर रहा था।उनका दिया ज्ञान, अनुशासन, ऊँचे नैतिक मूल्य इन तीनों के जीवन में बहुत मूल्यवान प्रमाणित हुए हैं। निर्मला का मन यह देख संतुष्ट हुआ कि तीनों बच्चों के मन से अपने पिता के लिए गिले-शिकवे समाप्त हो गए हैं।अन्यथा पुलकित ने पिता के अङियल स्वभाव के कारण ही चंडीगढ़ पोस्टिंग ली थी।

दोनों बेटों के जाने के बाद विशाखा दो दिन उसके पास ही रही, फिर निर्मला ने उसे अपना घर संभालने की सलाह दी। विशाखा और उसके पति दोनों डाॅक्टर हैं, नातिन अभी छोटा है।

निर्मला जानती है कि वह कभी अकेली नही रही है।उसे इसकी आदत डालनी हैं। रंजीत कहीं भी बाहर जाते, उसे साथ ले कर जाते थे।सब्जी लानी हो या अन्य सामान अथवा सुबह -शाम की सैर हो निर्मला को साथ जाना ही पङता था।बेशक सामान रंजीत की ही पसंद का होता था,पर उसे निर्मला का साथ अच्छा लगता था। पहले वह हमेशा उससे अपने ऑफिस की बातें करता था।अपने अहंकारी और हठी स्वभाव के कारण उसे ऑफिस में परेशानी का सामना भी करना पङता था। उसके स्वभाव ने उसके मित्रों और रिश्तेदारों को उससे दूर रखा था। पर रिटायरमेंट के बाद इन 10 वर्षो मे उसमें बहुत परिवर्तन आया था। और निर्मला की दिनचर्या तो और भी अधिक उसके चारों ओर बँध गई थी। जब वह ऑफिस जाता था तब वह फिर भी अपने मन का कुछ जीती थी। बंगलौर में वह कभी-कभी पङोस में चली जाती थीं या पङोसनें ही आ जाती थी। विशाखा के होने के बाद, बेटी की ज़रुरतों और खुशी के लिए उसने अपने को सजग और चुस्त बना लिया था।

रिटायरमेंट के बाद वे अपने शहर वापिस लौटे थे, तीनों बच्चें अपनी-अपनी गृहस्थी में व्यस्त हो गए थे। अकेलापन निर्मला को नहीं रंजीत को अधिक महसूस होता था।इसीलिए निर्मला उसके साथ बनी रहती थी।
रंजीत ही अधिक बोलता था, निर्मला तो सिर्फ श्रोता ही थी।अब ऑफिस की नहीं, उसके बचपन की, स्कूल-काॅलेज़ की बातें वह पूरे चाव से सुनती थी। कभी वह उसे पास बिठाकर अख़बार भी पढ़कर सुनाता था। पिछले तीन वर्षों में वह अधिक बीमार रहने लगा था। एक दिन वह अचानक बोला, ” निर्मला, तुम सिर्फ सुनती हो, बोलती नहीं हो, तुम भी अपने जीवन का कुछ बताओ।” निर्मला हैरान समझ नहीं सकी क्या कहे? उसका बचपन भी तो यहीं बीता था, और उससे पहले का जीवन कैसे याद करें? उसने सोचा, “रंजीत सिर्फ मुझे सुनना चाहता है।” उसने उसे अपने तीनों बच्चों के बचपन को सुनाना शुरु किया जिसे सुनाते हुए वह भी खुश होती और रंजीत भी हैरानी और मज़े लेकर सुनता था।और यही तो था उसका जीवन- रंजीत और बच्चे।
उसने बच्चों के जाने से पहले ही घर की व्यवस्था अपनी सुविधानुसार करा ली थी। वह नहीं चाहती थी पर बच्चे कामवाली बाई रख गए थे। बोले, ” पूरे जीवन पापा के कारण सारे काम अकेले करती रही हो, अब कुछ आराम करो” रंजीत कामवाली बाई को देखकर ही चिढ़ जाता था, जब कभी वह बीमार होती तब वह निर्मला को तो पूरा आराम देता और स्वयं बच्चों के साथ घर का काम संभालता पर इस समय बच्चों की बहुत आफत आती थी विशेषरूप से विशाखा तो फंस ही जाती थी क्योंकि वह लङकी थी (और एक लङकी को तो बहुत काम छोटी उम्र में ही आने चाहिए।)। यह सब देख निर्मला थोङी तबियत संभलते ही घर की बागडोर अपने हाथ में ले लेती थी। यह सब सोचते हुए निर्मला को दुख नहीं हो रहा था न उसे लग रहा था कि उसने कुछ सहा था अपितु यह सभी पुरानी बातें उसके चेहरे पर मुस्कान ला रहे थे।
जहाँ उसकी पूरी कोशिश रहती कि वह रंजीत के अकेलेपन की साथी बनी रहे, वहीं दूसरी ओर उम्र की थकान उसकी ओर भी बढ़ने लगी थी विशेष रुप से ये अंतिम तीन वर्ष…..। रंजीत तो हमेशा से ही उस पर निर्भर था, अब तो वह अपने को बहुत ही असहाय महसूस करता था। इन सबसे निर्मला भी चिङचिङी हो जाती थी, उसे दिखने लगा था कि अब अधिक दिन का साथ नहीं रहा है, भविष्य की कल्पना भी नहीं करना चाहती थी पर फिर भी उसकी खीझाहट निकल ही जाती थी, रंजीत उसे खीझता देख हैरान रह जाता था।जहाँ रिटायरमेंट के शुरु साल निर्मला ने बहुत धीरज के साथ तालमेल से बिताए थे, वहीं अब धीरज टूटने लगा था। अक्सर वह पुरानी बातें करते-करते रंजीत के स्वभाव और व्यवहार को दोष देने लगती थी, जो निर्मला कभी रंजीत के सामने बोल नहीं पाती थी, वह निर्मला बच्चों के दूर जाने के लिए भी रंजीत को जिम्मेदार ठहराती थी। तब एक दिन रंजीत बोला था, ” मुझे पता नहीं था कि तुम मेरे साथ इतनी दुःखी थी। मैं तो तुमसे बहुत प्रेम करता हुँ इसीलिए तुम पर अपना अधिकार समझता था। मैं सोचता था कि एक तुम्ही मुझे,मेरे विचारों और स्वभाव को समझती हो, पर मैं गलत था।” उस दिन रंजीत बहुत दुःखी हुआ था। निर्मला को भी अहसास हुआ कि वह इतना कैसे बोल गई थी? आज भी सोचती है कि जब शांति और धीरज के साथ इतने वर्ष बिताए थे तो……. क्यों कङवी हुई? जहाँ वह रंजीत को बिलकुल दुःखी नहीं देख सकती थी, कैसे वह उसे इतना दुख दे पाई थी।

एक दिन विशाखा को उसने अपने मन के इस संताप और पछतावे को बताया था। विशाखा बोली, “आपने कुछ गलत नहीं किया, आप उनसे बहुत प्रेम करती थी इसलिए हमेशा उनके विषय में सोचा, आपने अपने विषय में कभी सोचा ही नहीं था। पर आपका अवचेतन मन तो क्लेश में था, इसीलिए जब आपने महसूस किया कि अब आप अकेली रह जाएँगी तब आपके असुरक्षा के भय ने आपके अवचेतन मन के क्लेश को बाहर निकाल दिया था। कुछ गलत नहीं हुआ, सिर्फ इतना है कि यह बहुत पहले होना चाहिए था।”

निर्मला सोचती हुई बोली, ” पहले कभी लगा नहीं कि मैं उनके मन का करके गलत कर रही हुँ, वह जैसे थे, उसी रुप में उन्हें स्वीकार करके खुश थी। और आज भी नहीं लगता कुछ गलत किया था। फिर मैं जानती थी कि वह समझ नहीं पाएँगे, उनकी समझ इस तरह देख ही नहीं सकती थी। अब भी मैंने जो भी कहा बेशक कङवाहट से कहा, पर वे कहाँ मेरी चिङिचिङाहट व कष्ट समझ सके थे। उन्होंने तो इसका अर्थ यही निकाला था कि मैंने उनसे कभी प्रेम ही नहीं किया था अपितु मैं बेमन से उनके साथ रही थी।”

” मुझे लगा कितनी बङी गलती हो गई मैंने स्वयं अपने प्रेम को नीचे गिरा दिया, इतने वर्षों की तपस्या को मिट्टी में मिला दिया था। मैंने इतने वर्ष खुशी – खुशी और बहुत सहजता से बिताए थे। मुझे उनका साथ पसंद था। तु पता नहीं कैसे कह सकती है?” ” यह अवचेतन मन…. मैं नहीं जानती, मै सिर्फ इतना जानती हुँ कि मेरे हृदय ने उन्हें चाहा था, उनके स्वभाव, उनका गुस्सा, उनकी मनमानी… सबको गहराई से समझा था और उसके अनुसार अपने को ढाला था।” विशाखा ने माँ के दु:ख को समझा और कहा , “उन्होंने बेशक आपका दु:ख न समझा हो पर आपके प्रेम को समझा था और यह सच है कि वह आपको बहुत प्रेम करते थे पर अपने से ज्यादा नहीं करते थे।और आपने सिर्फ उनसे प्रेम किया पुरानी फिल्मी नायिकाओं की तरह उन्हें आराध्य मान लिया था। काश आपने अपने से भी प्रेम किया होता! तब यह बातें जो आपने उनसे इस समय की थी ,वो बहुत पहले हो जाती और वह मुश्किल से समझते या नहीं समझते पर आपके मन को अवश्य आज़ादी मिलती। ”
निर्मला बाद में भी विशलेषण करती रही कि ” क्या अपने को रंजीत के अनुसार ढाल कर गलती करी थी, अपनी इच्छाओं को अनदेखा करना गलत था?” ” रंजीत के साथ वह भी जिद्दी और अङियल बन जाती तो घर युद्ध का मैदान बन जाता। फिर सच है कि उसे रंजीत के मन का करके खुशी मिलती थी। अपने मन पर कभी ध्यान ही नहीं गया। क्यों?”

“क्या वाकई एक अवचेतन मन होता है? क्या जिस बात पर हमारा ध्यान नहीं जाता है, वह बात वहाँ ज़मा हो जाती है? उसे याद आया कि कई बार वह रंजीत के साथ कपङों की खरीदारी पर जाती थी तो वह अपनी पसंद के कपङों को देखती थी, खरीदने का मन भी होता था, पर खरीदती रंजीत की पसंद का, तो क्या इस तरह जब-जब वह अपने मन का अनदेखा करती थी, वे सब अवचेतन मन में जाता था ?” अब निर्मला के पास बहुत समय होता था तो वह पङोस में जाने लगी,सुबह- शाम पार्क जाने पर उसकी कई सहेलियाँ बन गई थी, उनके साथ वह बाजार जाती व वे सब मिलकर पिक्चर या घूमने भी जाते थे। इससे भी अधिक अच्छा लगा था जब वह पास की लाइब्रेरी की सदस्य बनी और किताबें पढ़ना शुरू किया था।
पर उसके जीवन में एक अन्य परिवर्तन आया जब उसकी कामवाली बाई अनीता ने कहा, वह अपनी बेटी को सिलाई सिखाना चाहती है, लेकिन उसका बाप उसे घर से ज्यादा दूर भेजना नहीं चाहता और सरकारी सिलाई केन्द्र घर से बहुत दूर है। उसने बताया कि दसवीं के बाद उसकी पढ़ाई भी बंद करा दी है।
निर्मला ने अनीता की बेटी सुमन को सिलाई सिखाने का निश्चय किया और साथ ही उसका बारहवीं का फार्म भी भरा दिया था। धीरे-धीरे उसके पास सुमन की तरह अन्य छात्राएँ भी आने लगी थी। निर्मला इन्हें सिलाई-कढ़ाई सिखाती व पढ़ने के लिए भी प्रोत्साहित करती थी व यथायोग्य उनकी सहायता भी करती थी। निर्मला स्वयं अनुभव कर रही थी कि उसके आत्मविश्वास मे वृद्धि हुई है। उसके व्यक्तित्व में आए निखार से खुश होकर विशाखा ने फिर यह सवाल किया,” यह सब इससे पहले क्यों नहीं किया?”
निर्मला बोली,” पहले समय नहीं था, और अब भी इत्तफ़ाक से मौके मिलते गए, तु भी कैसे प्रश्न करती है? फिर रंजीत के सामने यह संभव नहीं था, तुझे पता है न! अपने घर के लिए भी मैं कुछ सिलाई- बुनाई उसके सामने नहीं कर सकती थी। वह जानता था, मुझे यह सब करना अच्छा लगता है व बहुत अच्छा करती हुँ, तब भी…”
“याद है मुझे, पर स्वेटर आपके हाथ के बुने पहनते थे, लेकिन ऊन- सिलाई इधर- उधर रखी देख गुस्सा करते थे।” विशाखा बोली,
“फिर बता क्या मैं सोच सकती थी? वह तो चाहते थे कि मैं सिर्फ उनके काम करू और उनकी बातें सुनु। फिर घर के कित…. ने काम? समय ही कहाँ था?” निर्मला अतीत को याद करती हुई बोली।
विशाखा ने एक ओर तर्क रखा कि,” यह सच हैं कि पापा एक कठिन व्यक्ति थे, पर आपने भी अपने लिए नहीं सोचा, कभी अपनी बात उनके सामने नहीं रखी थी। हमें अपने लिए भी सोचना चाहिए और आप ऐसा कर सकती थी। याद है! जब भैय्या विज्ञान नहीं पढना चाहते थे, तब वह काॅमर्स में पढ़ाई आपके कारण कर सके थे और मैं भी डाॅक्टर आप ही के कारण बन सकी हुँ। आपने ही हमें अपनी बात पापा से कहने का हौसला दिया था, साथ ही दृढ़ता से हमारे साथ उनके सामने डटी थी कि हम वही करेंगे जो हम करना चाहते है।”
निर्मला यह बात सुनकर धीरे से मुस्कराई और बोली, ” हाँ, उनकी सोच ऐसी थी कि वह चाहते थे उनके बेटे डाॅक्टर या इंजीनियर बने, इसीलिए पुलकित को मेडिकल साइंस दिलाई थी। पुलकित बहुत निराश व दुखी था, मुझसे बोला, ” मैं डाॅक्टर नहीं बनना चाहता।”
” तब पहली बार मुझे लगा कि मुझे अपने बच्चों के लिए हिम्मत करनी होगी। मैं पहले उसके स्कूल गई उसके प्रिंसीपल व अध्यापकों से बात करी व यह भी कहा कि पुलकित के पापा को भी समझाना होगा, प्रिंसिपल व अध्यापकों से मिलने के बाद ही उन्हें समझ आया था पर मुझ पर बहुत नाराज़ हुए कि मैं बच्चों को सिर पर चढा कर रखती हुँ।” “सुमित की विज्ञान में रुचि थी, इसीलिए कठिनाई नहीं आई पर तु डाॅक्टर बनना चाहती थी, शुरू से पढ़ाई में बहुत होशियार थी, और रंजीत की वही पुरानी सोच कि लङकियों पर इतना पैसा क्यों खर्च किया जाए। लेकिन मैने तुझ से कहा कि तु उनसे बात कर। साथ में मैं भी तेरे साथ अङी थी व उन्हें लङके- लङकी में भेद करने के लिए खूब खरी- खोटी भी सुनाई थी। आज तो सोचकर भी हँसी आती है।तेरे लिए तो मैं भिङने के लिए तैयार रहती थी।”

निर्मला बच्चों के लिए भी बहुत तो नहीं पर ज्यादा जरूरी होता तो अवश्य रंजीत से बात करती थी, यह भी इतना आसान नहीं होता था, जब वह देखता कि उसके चुप गुस्से का किसी पर कोई प्रभाव नहीं रहा, वह बच्चों की इच्छा के लिए अङती व बहस करती तो उससे सहन नहीं होता, उसका क्रोध बढ़ता जाता, वह खूब शोर मचाता, यह बात ओर है कि किसी पर हाथ नहीं उठाता। लेकिन आज निर्मला मानती हैं कि उसका चीखना-चिल्लाना, उठा-पटक किसी आतंक से कम नहीं होता था। उसकी अनिच्छा की किसी भी बात पर वह शांति से चर्चा करना पसंद नहीं करता था। ऐसे समय वह निर्मला पर आरोप लगाता कि वह बच्चों के माध्यम से अपनी मनमानी करना चाहती है। उसे बुरा लगता कि निर्मला का डर खत्म हो रहा है, वह चाहता कि घर के सभी सदस्य उससे डरे। पर उसे अंदर ही अंदर यह डर था कि उसके बेटे बङे होकर उस पर हावी हो जाएंगे, तब वह अपना गुस्सा दिखाने के लिए और सामान की पटका-पटकी करता था, यह कमाल था कि बिना किसी को शारीरिक चोट पहुँचाए वह सबको मानसिक रूप से आंतकित रखता था।

वह नहीं चाहती थी कि बच्चें डरपोक बने इसलिए वह उन्हें अपने मन की करने की छूट देती, उसकी पूरी कोशिश रही कि बच्चें अपने मन का जीवन चुने और जीए। इसी कोशिश में उसने पुलकित को बी.काॅम श्री राम काॅलेज दिल्ली से करने के लिए प्रोत्साहित किया था, चूंकि बैंक की नौकरी के कारण अक्सर तबादला होता रहता था और उस समय भी यही स्थिति आ गई थी, रंजीत का स्थानांतरण लखनऊ शहर में हुआ था।अतः पुलकित को वह खुशी-खुशी दिल्ली भेजने को तैयार हो गया था, पुलकित के नंबर भी अच्छे आए थे, उसे एडमिशन आसानी से मिल गया था।उसके बाद पुलकित कभी पिता के साथ रहने को तैयार नहीं हुआ था, छुट्टियों में भी सिर्फ निर्मला और भाई- बहनों के कारण आता था। सी.ए. बनने में उसे रंजीत से सहायता अवश्य मिली और रंजीत भी उसकी उन्नति से खुश था, पर बचपन की गाँठे वह खोल नहीं सका था, पुलकित ने शादी भी अपनी इच्छा से दूसरी जाति में की थी। पिता-पुत्र के बीच स्वाभाविक संवाद बन ही नहीं पाया था।
सुमित अपने पिता के अनुसार अपने को ढाल लेता था या फिर बङे पुत्र से दूरी के कारण छोटे पुत्र के साथ रंजीत कुछ नर्म भी था।मगर निर्मला को यह भय रहता कि पिता की इच्छा पूरी करने में कहीं सुमित अपना मन कभी खोल ही न पाए।जब सुमित को आई. टी. इंजीनियरिंग बैंगलौर में एडमिशन मिला तो सब खुश थे और निर्मला राहत महसूस कर रही थी कि अब सुमित का स्वतंत्र व्यक्तित्व निखरेगा। सुमित ने विवाह भी अपनी स्वजाति में किया था। सुमित से ही रंजीत की बात-चीत होती थी।
विशाखा सबसे छोटी व लङकी होने के कारण निर्मला के साथ ही लगी रहती थी, रंजीत के मन में उसके लिए लाड तो था पर वह दुलारी नहीं थी जैसे निर्मला अपने पिता की दुलारी भी थी।
रंजीत के मन में एक अनजाना भय भी था कि विशाखा भी कहीं निर्मला की तरह छोटी आयु में ही……। इसीलिए वह उस पर बिलकुल विश्वास नहीं करता था व सख्ती से पेश आता था।
जब निर्मला को रंजीत के इन विचारों का ज्ञान हुआ तब पहली बार उसका दिल टूटा था। उसने रंजीत के सख्त व्यवहार और पुरातन विचारों को स्वीकार किया था या यूँ भी कहा जा सकता है कि उसने रंजीत के गुणों से नहीं अवगुणों से भी प्रेम किया था। पर रंजीत के इस विचार से उसका दिल ही टूट गया था। उसने अपने को बहुत अपमानित महसूस किया था। अंतिम वर्षों में जब वह रंजीत से खुल कर कङवा बोलने लगी थी, तब उसने रंजीत को धिक्कारा था कि” प्रेम तो दोनों ने किया था तो मुझे ही दोष किस लिए? विवाह की जल्दी रंजीत को थी, वह तो बहुत छोटी थी, रंजीत के प्रभाव में आसक्त उसकी इच्छा को ही अपना धर्म मानती गई थी।”
हालांकि निर्मला के मन में भी भय था कि वह नाजुक उम्र उसकी बेटी के विकास को, उसके सपनों को अवरूद्ध न कर दें। पर इसका अर्थ यह नहीं कि उसके लिए वह उस पर सख्ती करती या अविश्वास करती थी अपितु वह उसकी मित्र बनी, वह उसे दूनिया की ऊँच-नीच समझाती और उसने उसे अपना संपूर्ण जीवन खुल कर बताया, पर अपने प्रेम को कभी गलत नहीं कहा, फिर भी अपने व्यक्तित्व के विकास की अवरुद्धता अवश्य दर्शाई थी।

यही कारण है कि विशाखा उसे अच्छी तरह समझती है। निर्मला चाहती थी कि विशाखा अपने जीवन के फैसले स्वतंत्र रूप से लेने के योग्य बने।विशाखा शुरू से मैडिकल में जाना चाहती थी, इसीलिए निर्मला ने उसे प्रोत्साहित किया, जब वह भी पढ़ाई करने के लिए हाॅस्टल चली गई तब निर्मला बहुत अकेली हो गई थी। बच्चों को तो उनके स्वतंत्र विकास के लिए उसने उन्हें दूर भेज दिया था। पर वह स्वयं? तब भी उसका मन, इच्छा, दायरा रंजीत के अनुसार ही बँधा रहा, इसी प्रेम बंधन को उसने अपना धर्म समझ कर खुशी-खुशी निभाया था।
लेकिन यह विशाखा किस अवचेतन मन की बात करती हैं, जबकि उसने अपना जीवन रंजीत के साथ बिना किसी कष्ट को महसूस किए, जीवन गति को स्वीकार करते हुए आनंद के साथ जीया है।क्या वाकई कोई अवचेतन मन हैं जो कुंठाए अपने में ग्रहण करता जाता है?
निर्मला अपने पिछले 43 साल के जीवन को सोचना नहीं चाहती है, वह जीवन में आगे बढ़ना चाहती है। वह आज को भरपूर जीना चाहती है। पर फिर भी वह अपने में आए परिवर्तनों को स्वयं महसूस कर रही है। अब वह कोई भी कार्य करती है, छोटा या बङा, अपने लिए या दूसरे के लिए, यह ध्यान में नहीं होता कि कोई रोकेगा, टोकेगा या टीका- टिप्पणी करेगा। अब वह कोई भी काम किसी को खुश करने या किसी ओर की खुशी के लिए नहीं करती है। अब कुछ भी करना या न करना उसके अपने मन की बात हो गई है। अब तो वह हँसती भी स्वयं के लिए है। यहाँ तक कि वह उदासी के पल भी भरपूर जीती है। वह हैरान है कि वह वाकई अपने को स्वतंत्र महसूस करती है।
लेकिन फिर वह विशाखा की बात पर विचार करती कि क्या वह पहले भी इस स्वतंत्रता को पा सकती थी? लेकिन उसे तो इस आजादी का अहसास ही नहीं था, इस आजादी से मिली खुशी की, उससे मिली बेखौफ साँसों की उसे अनुभूति ही नहीं थी।
पर पूर्णतः यह सच नहीं है, शायद कहीं कुछ खुल कर ज़ीने की चाह ही थी कि जब तीनों बच्चें अपनी पढ़ाई के लिए शहर के बाहर थे तब एक बार रंजीत के ऑफिस जाने के बाद वह अकेली घर से बाहर गई थी और तब रंजीत की पोस्टिंग मुम्बई थी।
मुम्बई घूमने की चाह में वह घर से बाहर नहीं निकली थी,उसने शहर को जानने के लिए नहीं अपितु अपने को कुछ देर आज़ाद करने के लिए उसने अपने कदम बाहर बढ़ाए थे। आज याद करती है तो अपने पर हँसी आती है कि कैसे उसे लग रहा था कि आस-पास चलते लोग उसे ही देख रहे हैं, वह एक बस पर चढ़ी, बहुत घबराते हुए कडंक्टर से टिकट लिया था। पर बहुत दूर जाने की हिम्मत नहीं थी इसलिए दो स्टाॅप के बाद ही उतर गई थी। उसे इस बात का डर नही था कि वह खो जाएगी या सङक पर कोई उसे परेशान करेगा, उसे तो इस बात का डर था कि कहीं रंजीत किसी काम से उधर न आ जाए अथवा वह घर ही जल्दी आ जाए…। फिर भी वह उस काॅफी हाउस में घूस गई और वहाँ काॅफी पीते हुए अपने अंदर साहस और आत्मविश्वास को महसूस किया था। यह जानते हुए भी कि रंजीत जल्दी नहीं आ सकता वह जल्दी घर आ गई थी पर उस दिन बहुत खुश थी।

यह बात उसने विशाखा को अब बताई तो वह बोली,” माँ, आपको इस तरह बाहर निकलते रहना चाहिए था, और पापा के भय को अपने अंदर से निकालना चाहिए था। उनको पता लगता तो भी उनकी परवाह नहीं करनी थी।”
” बेटा, उनके विरुद्ध जाने पर वह और बंदिशे लगाते और क्रोधित भी होते, जब तुम लोगों के मन व जरुरतों के लिए बोलती थी, तब भी कितना शोर मचाते थे, और अगर मैं अपने मन का करती तो मेरी आफत ही आ जाती, नहीं?” कहते हुए निर्मला ने विशाखा की ओर देखा तो पाया उसकी आँखों में अपनी माँ के लिए ममता भरे आँसू थे।
फिर उसने निर्मला के कंधे पर हाथ रखा और बोली,” माँ, अभी भी आपकी आँखों में डर भरआया है, यह बात करते हुए आपका चेहरा भय से पीला हो गया है, जबकि पापा अब नहीं है।”
“जानती हो, आपने अपने डर को प्रेम का ज़ामा पहना रखा था, यह सच है कि आप उनसे प्रेम करती थी, लेकिन जो प्रेम आपको अपने से करना था उस के चारों ओर आपने भय की मज़बूत दीवारें बना ली थी, जिसे आपने अपने पति के प्रति श्रद्धा व सम्मान का नाम दिया था।”
“इसलिए आपने अपने सिवाए सबसे प्रेम किया, तभी जब हमारी खुशी की बात आती तब आप डरती नहीं, अपितु उनसे पूरी ताकत व तर्क शक्ति के साथ जूझती थी, वह भी बहुत नाराज़ होते पर बात मान जाते थे, चाहे बात हमारी पढ़ाई की हो या हमारे अंतर्जातिय विवाह की हो, जिस तरह आप हमारे लिए लङी, अपने लिए भी लङना चाहिए था।”

निर्मला विशाखा की बात सुनते हुए बोली, ” तुम लोगों की इच्छा व खुशी स्वीकार करने में उनकी हार नहीं थी पर जब बात मेरी होती तो वह इसमें अपनी पराजय समझते।”
” और जब आप विरोध करने लगते हैं तो सामने वाला आपको समझता नहीं है अपितु वह आपके विरोध को पूरी ताकत से दबाता है। आप उससे प्रेम पूर्वक भी अपनी थोङी -सी खुशी या अधिकार माँगते हैं तो उनके अहं को चोट पहुँचती है।”
” और फिर उनके अहं से टकरा कर क्या घर की शांति खत्म नहीं हो जाती है, अगर पति- पत्नी दोनों ही अपनी-अपनी खुशी देखने लगेंगे तो परिवार कैसे सुखी रहेंगा।”
विशाखा तपाक से बोली, ” घर की सुख- शांति की जिम्मेदारी सिर्फ पत्नी पर क्यों? फिर पहले ही डर जाना और अपनी खुशियों को अनदेखा करना तो बहुत गलत है। इन सबके बाद भी क्या हुआ? क्या उनका कोई बेटा उनके पास रहने को तैयार हुआ? क्या शांति थी?।”
” मैं आपको दोष नही देती माँ, पर यह अहंकारी पुरूष आपके डर का और आपके रीतियों से चले आ रहे संस्कारों का लाभ उठाते है। जानती हो माँ जहाँ पति- पत्नी एक दूसरे की इच्छा का सम्मान करते हैं, वही घर वास्तव में सुखी रहते है। अपनी इच्छा व खुशी का स्वयं भी मान करना चाहिए उसे अनदेखा नहीं करना चाहिए। अहंकार गलत है पर अपना मान करना गलत नहीं है।”
निर्मला ने सवाल किया, ” क्यों पुरूषों को भी तो विवाह निभाने के संस्कार मिलते है और पत्नी अङी और क्रोधित स्वभाव की हो सकती है, तब…. ?
विशाखा बोली ,” सहना गलत है, वह स्त्री हो या पुरूष हो, फिर भी पुरूष सत्तात्मक समाज में ऐसी अहंकारी स्त्री की आलोचना होती है, जबकि पुरुषों के लिए माना जाता है कि वे तो ऐसे ही होते हैं। समाज उसकी भी आलोचना कर सकता है पर तिरस्कार नहीं करता है लेकिन ऐसी अंहकारी स्त्री को समाज के लिए हानिकारक माना जाता है।”
निर्मला विशाखा के तर्कों पर विचार करते हुए सोच रही थी कि उसने इस दृष्टि से कभी जीवन को देखा ही नहीं था।
एक वर्ष बाद रंजीत की बरसी पर फिर सब सम्मलित हुए थे, इस एक वर्ष में निर्मला का बदला हुआ स्वरूप मिला। साल में एकबार वह पुलकित के पास और एक बार सुमित के पास गई थी, बिलकुल अकेले यात्रा करने की सलाह विशाखा ने ही दी थी।
निर्मला ने गरीब लङकियों को समर्थ करने का कार्यक्रम तो सफलता पूर्वक चलाया ही इसके साथ ही उसने प्रत्येक आयु व वर्ग की महिलाओं के लिए एक क्लब खोला जिसमें वे सब विभिन्न विषयों पर चर्चा करते हुए, अपने से प्रेम करना और अपना मान करना भी सीखते थे।
निर्मला अचंभित है कि आज के युग में भी अधिकाश लङकियाँ अपनी खुशियों और मान को अनदेखा करके घर मे शांति बनाने की कोशिश में लगी है, जबकि वह उच्च शिक्षित व नौकरी पेशा भी है। नई पीढी के लङकों को अभी अपने अहं से जुझना पङ रहा था, वे आधुनिकता और पुरातनता के बीच झूल रहे हैं।
यह क्लब था कोई महिलाओं की सामाजिक संस्था नही थी। यहाँ प्रत्येक सदस्य अपने अनुभव दूसरों को बताता और चर्चा होती व एक नई सोच तैयार होती थी। यह स्पष्ट था कि यह क्लब पुरूष विरोधी नहीं था। महिलाएँ अपनी सोच पर कार्य करने के साथ पुरूषों की सोच पर विचार करती थी, और कैसे अहंकारी और हठी पुरूषों के साथ व्यवहार किया जाए। इस क्लब का विश्वास था कि समाज की उन्नति के लिए स्त्री व पुरूष दोनों के विचारों में बदलाव आवश्यक है। यह आवश्यक है कि दोनो एक दूसरे का सम्मान करें। यहाँ नफरत की बातें नहीं की जाती थी इसीलिए प्रेम से कोई परहेज नहीं था बशर्ते प्रेम का अर्थ अपने मान को त्याग करना न हो। अपने को भी प्रेम करों व दूसरे के प्रेम का सम्मान करो।इस क्लब का यही उद्देश्य था।
निर्मला खुश थी कि वह अपने जीवन के अनुभवों से नई पीढ़ी में एक नई सोच की पौध लगा रही है।